वक़्त

शमशानवासी को शिव बनने में वक़्त लगा
सिद्धार्थ को बुद्ध बनने में वक़्त लगा
नहीं बदलती यू एक रात में कायनात
सूरज को यहां आग बनने में वक़्त लगा

जलती चिता को राख बनने में वक़्त लगा
देखा जो ख्वाब पूरा होने में वक़्त लगा
ज़िंदा लाश की तरह है हर किसी की शख्सियत
इंसान को यहां इंसान बनने में वक़्त लगा

6 Likes

बेहद उम्दा रचना। :heart_eyes:

Awesome

Khubsurat​:cherry_blossom::cherry_blossom: