अकेला जो मैं चला...✏

तन्हाई अब अच्छी लगती हैं , इसमे इक ताक़त सी लगती हैं ।
अब जरूरत नहीं हैं भीड़ की खुश होने के लिये , ये बात अब सच्ची सी लगती हैं ।।
जित्ता तू तेरे साथ है , उत्ता कोई साथ तेरा दे नहीं पाएगा ।
परिवार और दोस्त सिर्फ एक हिस्सा हैं ,याद रख तू अकेला ही अपने जीवन का एक किस्सा हैं ।।
गलती लोगों की नहीं हैं , सब खुद ही करना पड़ता हैं ।
धीरे-धीरे ये भी एक आदत बन जाती हैं , फिर मुसीबत में तुझे अपनी ही याद आती हैं ।।
अब जो चल पड़े हो अकेले तो मतलबी मत हो जाना तुम , बस अपनी मस्ती में मस्त रहना , किसी का नुक़सान मत कर जाना तुम ,अकेला जो में चला…:black_nib:

5 Likes

This is so awesome :ok_hand::ok_hand::ok_hand: @obscure_writer

2 Likes

बेहद खूबसूरत।।। :heart::yellow_heart:

2 Likes

Bahut bahut sukriya

1 Like