मेरी जुस्तजू

लिपट जाऊं मैं तुझसे
आसमां में बादलों की तरह
सहेज कर रखु तुझसे जुड़ी हर याद
अंधेरों में झुग्नू की तरह
चूम लूं तेरे दुपट्टे को
मयखाने के खाली पैमाने की तरह
बसा लूं तुझे ज़हन मैं इस कदर
रगों में दौड़ती शराब की तरह

5 Likes

Very well penned and welcome to YoAlfaaz :heart:

2 Likes

Thank you :blush:

1 Like

Beautifully written. :heart:
Welcome to YoAlfaaz. :heart:
Keep writing. :heart:

1 Like

Thank you :blush:

I like this one…
We would love to read more of your compositions,
So
Here welcome to Yoalfaaz♥