बेबाक़

कुछ करते काम की बातें कुछ नाम कहते हैं
कुछ भरोसे को भी खुदगर्ज़ी का दाम कहते हैं
दुनिया वाले तो छिपा कर कहते हैं बातें भी
कुछ ही तो हैं बाकी जो सरेआम कहते हैं

3 Likes