हलक से लुखमा उतरेगा नहीं

आप कभी अपनो को खोयेगें नहीं ।
गर अपनों की ताक़ीद मानकर ,गैरों के सामने रोयेंगे नहीं।

क्योंकि तकलीफ़ जब किसी अपने की होती हैं ।
हलक से लुखमा उतरेगा नहीं ,फ़िकर में आप भी सोयेगे नही।

अपनी ही शाख काटनी पड़ जाये ।
अहद कर ले ऐसा कोई नफरत का बीज कभी बोयेंगे नही।

4 Likes

बिल्कुल सही एक दिन सभी को इसका एहसास होगा

2 Likes

Yeah… It’s all about the facts happening in everyone’s life…

Thanks for understanding

1 Like