गुज़ारिश कहां

आपसे इश्क़ आज भी है हमें पर मिलने की गुज़ारिश कहां,
बदन तो तर-बतर है पर रूह को भिगाए ऐसी बारिश कहां।

3 Likes