नहीं कर पाता

quotation

#1

जैसे एक दिया…
भले ही जलकर
अपने चारों ओर रोशन कर तो सकता है,
पर खुद उसके अंदर (नीचे) के अँधेरे को दूर नहीं कर पाता;
ठीक वैसे ही,
एक तन्हा इंसान…
महफ़िलें तो सजा सकता है,
पर खुद के अंदर की तन्हाई खुद से दूर नहीं कर पाता।।


#2

Bahut khoob likha or bahut sahi baat nahi hai.
Dusro ke chehre pe khushi lane waale sab khush nhi hote, kuch andar se toote hote hai
Nice post @Rupa_dey


#3

Ekdum patay ki baat karte hai aap.


#4

bilkul sahi likha hai, wo kehte hai na,
chehre pr muskan ka mtlb khush hona nhi hota,
kuch muskan gum ko chupane ke liye bhi hoti hai…


#5

Thnkuh all