वफ़ा से खुदखुशी ।

वफ़ा की बात कहा होती हैं ।
महफ़िलो में भी मुलाकात कहा होती हैं ।

हमें ग़फ़लत में उनसे इज़हार करना पड़ता हैं ।
आँखे खुलते ही ,वो फ़रार होती हैं ।

में सुबह से मौत माँग लेता अपनी बात रखने को ।
मग़र इस्लाम मे खुदखुशी भी तो हराम होती हैं

4 Likes

Haaye…
Behad khoob :purple_heart::kissing_heart::smile::heart_eyes:

1 Like

Thanks a ton …:heart_eyes:

Wow. Wow. Wow. Commendable

1 Like

Shukraan :heart_eyes: