यकीन ख़ुद पर

serious
shayari

#1

कभी खुद से कभी खुद ही में लड़ी हूँ मै,
खुद ही खुद की मशाल बन कर खड़ी हूँ मैं|

गिरी खुद से, खुद से ही खड़ी हूँ मैं,
जानती हूँ अपनी मुश्किलों से बड़ी हूँ मै |


#2

Yahi confidence rakhe…kafi kadak soch hai.
Welcome to YoAlfaaz family


#3

Yahi Viswas or himmat hi chahiye zindagi ki kisi bhi musibat se ladne or usse jeetne ke liye. Yahi bharosa khud par aapko khaas banata hai.

or is Yakeen ko kalam se kaagaz par bahut khoob utaara hai aapne
nice post @arshi_ahmed


#4

बहुत शुक्रिया आप सभी का :heart:


#5

are wah, kya baat hai… bohot khoob likha hai… :clap: