ख़ुलूस

तामील हुई जिसकी वो हुक़्म उनका था
मदरसे से गुज़रा जो वो जुलूस उनका था
कभी देखा नहीं नजायज़ नज़रों से किसी को
हमको सौंपा ये जो वो ख़ुलूस उनका था

3 Likes