शायरी

इतना मशगूल हैं वो खुद में कि,
उन्होंने हमारी फिक्र करना छोड़ दिया है
बहुत क़क्त दिया था, कई मौके भी दिए थे
अपनी मौजूदिगी के,
इसलिए अब हमने भी उनका जिक्र करना छोड़ दिया है।
©Ayushi_writeups

3 Likes

:heart::heart:
Welcome to YoAlfaaz. :heart:

nice post friend @Aashi_Writeups
and
welcome to YoAlfaaz family
Keep writing and sharing :slightly_smiling_face: