दिल,गम,कहानियाँ

ये दिल चन्द लफ़्ज़ों का ग़ुलाम नहीं ,
ना जानें कितनी कहानियाँ समेट कर बैठा है ।
कई खुशियाँ है , जो कभी किसी से बाटी नहीं ,
ना जानें कितने गमों को झेल कर बैठा है ।।

5 Likes

:star_struck::star_struck::star_struck:

1 Like

@Ravi_Vashisth shukriyaa :heart:

1 Like

This one is lovely. :heart_eyes::heart_eyes:

1 Like

:heart_eyes::heart_eyes::heart_eyes:

Wow! :heart:

1 Like

Thankyou😊