समंदर और हम

समंदर तुम्हें अपने ठहरे पानी से
शांति और सुकून दे जाता है
और साथ ही
तुम्हारी दिक्कत और परेशानियों
को खुद में अंदर डूबा ले जाता है

इसीलिए उसकी गहराई काफी गहरी होती है
ताकि उसका दर्द
जिसमे उसका सिर्फ 10 और
औरों का 90 है
वो कोई जल्दी नाप जान
या समझ नहीं पाए।

हम सब कहीं ना कहीं किसी ना किसी के समंदर है।।

-प्रखर

4 Likes

very nice post
kaafi interesting hai or kaafi deep bhi
and
welcome back after a long time
keep writing and sharing

Badhiya :+1::slight_smile:

बेहद खूबसूरत।।

शुक्रिया :heart_eyes:

Thank you so much sir!!

1 Like