दुनिया कि भाषा

बहुत ठोकरें खाने के बाद ये पता चला कि दुनिया को समझाने की भाषा “गुस्सा” नहिं “प्यार​” हेेै ।

5 Likes