तुम नशे मे ही अच्छे हो

तुम नशे में ही अच्छे हो,
कम से कम तब तो तुम हमारे हो ।
तुम बेख़्याली में ही सच्चे हो ,
यकीनन कहीं ना कहीं तो मानते हमें अपना हो ।।

तुम नशे में ही अच्छे हो ,
क्योंकि दुनिया का गम भुला तुम मुझे अपनाते हो ।
तुम बेहोशी में ही सच्चे हो,
मानो तुम्हें मुझमें मिल गया कोई सुकून है।।

तुम्हें पता है…
तुम मदहोशी में ही प्यारे हो,
क्योंकि तब तुम्हारे चेहरे की मुस्कान में राहत होती है।
और क्या तुम्हें पता है…
हमें तुम्हारी सादगी से मोहब्बत है,
क्योंकि उसमें मिलती हमें चाहत है।।

-wordsbyritti

6 Likes

Sometimes words hold so much of beauty. :black_heart:

1 Like

:heart_eyes::heart_eyes::heart_eyes:
Yeah… true…
Thank you😘

1 Like