ऐ दोस्त तेरे होने से

ऐ दोस्त तेरे होने से
अन्धकारमय " किरण " को उजाला मिला है…!
खोई रहती थी, जो उलझनों में हमेशा
तेरे होने उसकी नाव को, किनारा मिला है…!
जिसको किसी से बात करने ज्ञान न था
तेरे होने से उसे अपनी बात सबके सामने रखने का अनुभव मिला है…!
और ज़्यादा तो क्या कहूँ,
ऐ दोस्त तेरे होने से,
" किरण " को अपना असली वजूद मिला है…!!
Kittu_ki_diary

6 Likes

:heart_eyes::heart_eyes::heart_eyes:

1 Like

:heart::heart:

1 Like