दर्द की दास्तान

फूल चढ़ाऊँ तेरी कब्र पे या गंगा में तेरे फूल बहाऊ,

मन करता आज में तेरे नाम का जी भर के नहाऊं।

#नादान

4 Likes