मेरी एहसास

मैं क़ाबिल कहा जो ग़ालिब बन सकूँ
खवाहिश इतनी की एक जर्रा बन सकूँ
जाना है दूर उस आसमाँ के पार,
जाने के बाद तेरी आँख का आँसू बन सकूँ

3 Likes

Bahut khoob brother @MohitPratap and welcome to Yoalfaaz

aansu to bas beh kr ludak jate hai…
aasman mai jana ho to…
aankho ki gehraiyo mai utarna padta hai… :wink:

1 Like