भोजपुरिया शायरी

हमरा मनवा बड़ा चंचल बा
कबो इधर कबो उधर
न जाने किधर किधर
भटकता जरा एकरा के
समझावल जाये
इहे बिनती बा रउआ
सब से

4 Likes

Gajab