दर्द की बात दिल तक

हर कस्ती को किनारा नहीं मिलता
हर नैय्या को खेवैय्या नहीं मिलता
यही तो दुनिया की रित है यहाँ
हर बेघर को सहारा नहीं मिलता

3 Likes