मुखौटा

कितने घर जलाए होंगे उसने बस इक अंधेरी रात मिटाने को,
खुद को जाने कितने मुखौटे पहनाए होंगे बस इक बात छिपाने को।।

6 Likes