इश्क़ दास्ताँ

मेरे इश्क़ से मिली है तेरे हुस्न को ये शोहरत,
तेरा ज़िक्र ही कहाँ था मेरी दास्ताँ से पहले

5 Likes