पौरुषता

लब पे मेरे दुआ आते-जाते ठहर जाती है;
कुछ हवसियों के हैवानियत के आगे पौरुषता भी सिहर जाती है।।

6 Likes

Sahi kaha…

1 Like