साथ! ! ! !!

थामी जो मेरि कोमल कलाइयों को, वो भी जग भूल जाते थे,
सिर्फ हम ही नही हमारे अहसास से, वो भी गुलजार हों जाते थे!

3 Likes