जुबां पर

जुबाँ पे पहरे डाले कुछ अल्फ़ाज़ तेरा इंतजार करते रहे,
कल रात मेरे तकिए कि सिलवटें फ़िर से तेरे यादों से भींगे रहें!

3 Likes