काँटे

कांटों कि तरह चुभती हैं अब तुम्हारी बातें,
क्यों दूर रह कर भी मेंरे यादों में रहते हों॥

3 Likes