माँ! माँ! माँ!

जिंदगी नासूर लगती हैं कभी-कभी,
माँ के आँचल तले,
न जाने क्यूँ सब कुछ खूबसूरत थीं!

7 Likes

Chhanv he wo aanchal kaha
Dhup me khud khadi reh wo he Maa


Behtareen :clap:t2::clap:t2: