विश्वास

एक विश्वास की कलम का मंचन किया है ,
दीदार तेरा मेरे जीवन में कुछ उलझा हुआ स है

सारांश ।

4 Likes

Bahut shukriya

1 Like