बचपन!

बचपन मखमल के चादर तले गुज़री,
जवानी सड़कों पे ठोकरें खाते गुजर रही हैँ॥

5 Likes

Dard zindagi ka kuch hi lines me bakhoobi sanjoya he​:clap:t2::clap:t2: