ताजुब

ताजुब होता है हमें,
उसकी हर एक बात का जब वो कहा करते थे…
कि नन्दु तेरे बिना जी नहीं पाऊंगा में, तू तो जान है मेरी, हर बात हर एक जज़्बात बिना कहे ही समझ जाय करती है… तुझसे दूर हो कर में कभी नहीं रह पाऊंगा…

अब खबर मिली है किसी दूसरे से की सगाई हो गयी है उनकी…
:joy::joy::joy:

5 Likes