मेरी कहानी

वक़्त बेवक़्त हर बात में जिक्र तेरा ही किया करती थी…
तुझे मुस्कुराते देख कर ही खुश में भो हो जाया करती थी…
मोहब्ब्त् का इकरार पहले तूने ही किया था ना…
मैं तो गुमनाम बन कर भी घंटो तेरी id में घुमा करती थी…
हर कमैंट्स पढ़ना जैसे एक जरुरी सा काम बन गया हो मेरा…
हर घंटे स्टोरीज डाल डाल कर तेरे स्टोरी रिप्लाई के इन्तज़ार् में किया करती थी…
वो मेरी तुझसे बातें शुरु होने के पहले 2 साल की मोहब्ब्त् ही सही थी…
जब तो ना तुझे खोने का डर था,
ना ही तुझे पाने की ख्वाईश…
अब जो तू मेरा हो कर भी किसी और का हो गया है…
दिल को जो मैंने संभाला था मिनत्तो से,
अब उसे तू कुछ इस कदर तोड़ गया है…
अब जो में संभल ना पाउँ खुद को तो अफ्सोस ना करना…
मर भी जाऊं अगर जो तो रोना मत अफ्सोस भी ना करना,
कहना उससे की कहा करती थी वो,
बड़ी ही किस्मत वाली होगी जो संगीनी तुम्हारी बनेगी,
खुश रखना उससे,
बस मुझे कभी भूल ना जाना…
मैं तुम्हारी थी,
तुम्हारी ही रहूंगी,
बस तुम कभी अपने अश्को को इन आँखों से ना छल्कान…

©Nandita s. Rajput
#Nandu❤

4 Likes

Behad pyaara… Loved it :heart_eyes::heart_eyes:

1 Like