जो हुआ उसे भुला तो दे

जो हुआ उसे अब तू भुला तो दे,
होगी फिर मोहब्बत, तू हवा तो दे.

तेरे ज़ख्मों को फ़िर से भर दूँगा मैं.
लगाने, मुझे तू दवा तो दे.

तेरे हिस्से के आँसू अब मैं रोऊँगा,
लगाकर गले मुझे तू रुला तो दे.

हो गयी गलती, गुनहगार हूँ मैं,
हसकर सह लूँगा, तू सज़ा तो दे.

तेरे कदम, अपनी हथेली पर रख लूँ,
मेरी तरफ़ एक कदम, तू बढ़ा तो दे.

माना के तू खो गया है कहीं,
तुझे ढूंढ लाऊं, तू पता तो दे.

तेरे बगैर मुझे, मौत भी नहीं आती,
तेरे बिन जीने की, तू वजह तो दे.

5 Likes

Haaye :heart_eyes::heart_eyes::heart_eyes:

1 Like

Aap ho kahan, Ritika ji?

1 Like