महबूब मेरे!

महबूब मेरे! जब पूछने लगे मुझसे मेरे ही अफसाने,
क्या कहती मैँ, दिल की चोट अल्फाजों में क्यो उतरे?

5 Likes