दिल! दिल!

दिल क़ो जोड़ लिया हैं मैंने,
कम्बक्क्त दरारे भरती ही नहीँ॥

4 Likes