पतझड़

पतझड़ के मौसम ने रंग-बिरंगे फ़ूल सा था वो मेरे लिए,
मैँ उसकी काया वो कायनात सा था मेरे लिए॥

3 Likes

You’re The Greatest!