नशा है छाया

हमने ऐसा क्या कहर ढाया?
नशा सा कुछ आखो में है छाया,

देखता हूं खुद को तू नज़र आती है,
सवारु खुद को तू सामने आती है।

#नादान

3 Likes