मेरे हमसफ़र.!

मेरे हमसफ़र आओ कभी मुझसे मिलने.
वैसे मुलाकात तो रोज़ होती है,
मेरी यादों में… मेरे खत में,
पर वो इतवार नही जो पहले कभी
तेरे मिलने पर इन् आँखों को एक सुकून मिलता था,
और इस दिल को एक नयी उम्मीद.

8 Likes

Dekho WO aa gya
:wink::wink::wink:

nice post @kamu_pillai

3 Likes

hhahah​:joy::metal::+1:

1 Like