ख्वाब!

ख्वाब आँखों मैं लिए
शहर की ओर चल रहा हूँ!
गाओं की गलिओ से दूर नही बस अपने सपनो के थोड़ा करीब चला जा रहा हूँ!
दिल मैं जूनून और सर पर माँ का आशीर्वाद लिए दौड रहा हूँ ꫰

3 Likes