रिश्तो के धागे

रिश्तो के धागे एकबार उलझ जाए
तो फिर कभी पहले जैसे नही होते।
और कुछ रिश्ते तो ऐसे उलझते है
की उन्हें सुलझाने में पूरी ज़िंदगी निकल जाती है।

8 Likes

True that. :broken_heart:
Welcome to YoAlfaaz. :blush:
Keep writing. :heart:

2 Likes

Thanks for the warm welcome.

गर सच कहे तो फिर ऐसे रिश्तों से निकल जाना ही बहेतर होता है।

2 Likes

True that Welcome to the world of writing and explore here don’t worry the thread will be continue here

2 Likes

Ofcourse it is

Thanks, it’s my pleasure

1 Like

very nice start @Rose,

welcome to YoAlfaaz family
keep writing and share :slightly_smiling_face:

1 Like

Thanks, it’s my pleasure…

1 Like