मेरे बाबा कलाकार हैं।

चाँद-तारे तो नहीं,
पर जिंदगी की शाख से सारी खुशियाँ तोड़ लाते हैं;
बाबा भी ना, कलाकार है शायद…
मेरी हर अनकही बातें भी जान जाते हैं।।

7 Likes

:heart:

1 Like