परायों पे भरोसा

shayari
#1

महबूब कें भरोसे,
जिंदगी जीने का आसरा मत रखना,
वो बहता हू नीर सा हैं,
ठहरेगा नही,
तुम्हे बांध बना के जरुर चल देगा॥

4 Likes
#2

Bahut khub

1 Like
#3

शुक्रिया

1 Like
#4

Su su swagtam

1 Like