मुनासिब

मुनासिब नहीं अब हर दर्द बतलाना,
कुच खुद तक रखना,
कुछ तुझ तक पहुँचाना।

6 Likes

love it :heart:

1 Like