किताबों की बातें

shayari
#1

मेरि आँखे भी जब ज़वाब दे देती हैं,
बस अब बस कर,
फ़िर भी मैँ थोड़ा और पढ़ लेती हूँ,
क्यूंकि मेरी किताबें मुझसे चूपके से कहती हैं,
थोड़ा और ! थोड़ा और!

8 Likes
#2

:heart_eyes::heart_eyes:

1 Like
#3

:heart:

#4

Fabulous

1 Like
#5

Thank-you so much

1 Like
#6

You’re welcome :blush:

1 Like