वफ़ा समझे

जब भी मेरी ख़ामोशी को वो खता समझे…
रहमत इतना कर ए-खुदा कि वो इस खफ़ा को वफ़ा समझे।।

7 Likes

:blush::heart::heart:

1 Like

Beautifully penned

1 Like