बख्शीश

ले कटोरा निकल दिये अनजानी राहों पर
अब जीने के लिये खुदा का ही सहारा था
राह में जो आया तेरा घर
हम बख्शीश में तुमसे तुम्हें ही मांग बैठे
कमबख़्त तेरे इश्क़ ने हमें एक बार फिर
फकीर से काफिर कर दिया

6 Likes

Oh my GOD! Boht khoob

1 Like

Thank you so much

1 Like