नामुमकिन

नामुमकिन तो ना था उसे हमसे मोहब्बत होना
बस कसूर उसकी नजरो का था
जो सिर्फ दोस्ती के लायक ही समझा ।

4 Likes

Ohh