आज कल

दर्द का सबब छुट्टा नहीं।
इश्क़ का ज़ख्म कभी भरता नहीं।

पहले होती थी इश्क़ जान की बाज़ी,
आज कल बेवफ़ाई से कोई मरता नहीं।

6 Likes

Good work. Keep it up…

1 Like

Thnx