वक़्त की मार

वक़्त की मार जब समजोगे,
बहुत देर हो चुकी होगी,
तेरे पराये तो छोड़ तेरे अपने भी तुजे अलविदा कह देंगे,

जब मेरा प्यार समजोगे,
बहुत देर हो चुकी होगी,
तेरा प्यार तो भूल तू खुद को भी नफरत करती होगी,

जब दूरिया और नज़दीकियां समजोगे,
बहुत देर हो चुकी होगी,
तेरी नादानियत छोड़ तेरी होशियारी भी मर चुकी होगी।

#नादान

4 Likes

Well penned…

Hey @Sheela_Joby2019 thx for appreciation.