हो ना हो

shayari
serious
poem
love
nazm
#1

अब हमारी मुलाकात हो ना हो,
तेरे मेरे दरमियाँ बात हो ना हो,

सूरज तो उग आया वक़्त से पहले,
पर आज की रात हो ना हो।

4 Likes

#2

Bahut khoob dost, bahut khoob @Dara_anil1

1 Like