वो ज़खम

shayari
#1

दिल के ज़खम आज फिर हरे हो गये,
लफ्ज़ आज फिर लड़खड़ाहट से भरे हो गये,
जितना भी दूर जाने की कोशिश क्यू ना कर ले,
हर मोड़ पर फिर तुम्हारे अक़्स आकर खड़े हो गये।

-Alveera Hafeez
Ig-@unkahi.talks

5 Likes

#2

are wah… kya baat hai…
bhoot khoob likha hai… :clap:

0 Likes

#3

:clap::clap::clap:

0 Likes